टिहरी। सागर सुनारउतराखण्ड हिमालय क्षेत्र का ग्यारहवां राज्य है जो अपनी भौगोलिक विषमताओं के लिए अन्य राज्यों से भिन्न है जहां ऊंचे ऊंचे पर्वत, घहरीे घाटियां,सुदूरवर्ती क्षेत्र व इक्कीसवीं सदी में आधुनिकता से दूर जीवन यापन करना बहुत ही कठिन व जोखिम भरा होता है। कभी अपने हक के लिए लड़ना तो कभी अपने अधिकारों […]" /> टिहरी। सागर सुनारउतराखण्ड हिमालय क्षेत्र का ग्यारहवां राज्य है जो अपनी भौगोलिक विषमताओं के लिए अन्य राज्यों से भिन्न है जहां ऊंचे ऊंचे पर्वत, घहरीे घाटियां,सुदूरवर्ती क्षेत्र व इक्कीसवीं सदी में आधुनिकता से दूर जीवन यापन करना बहुत ही कठिन व जोखिम भरा होता है। कभी अपने हक के लिए लड़ना तो कभी अपने अधिकारों […]"> आपदा: आपदाओं का प्रदेश,जूझते लोग, समस्याओं के निराकरण में सब फेल » Uttarakhand Today News
Connect with us
1596457147611
बूढाकेदार आपदा

उत्तराखंड

आपदा: आपदाओं का प्रदेश,जूझते लोग, समस्याओं के निराकरण में सब फेल

ezgif.com resize

ajax loader

टिहरी। सागर सुनार
उतराखण्ड हिमालय क्षेत्र का ग्यारहवां राज्य है जो अपनी भौगोलिक विषमताओं के लिए अन्य राज्यों से भिन्न है जहां ऊंचे ऊंचे पर्वत, घहरीे घाटियां,सुदूरवर्ती क्षेत्र व इक्कीसवीं सदी में आधुनिकता से दूर जीवन यापन करना बहुत ही कठिन व जोखिम भरा होता है।

कभी अपने हक के लिए लड़ना तो कभी अपने अधिकारों के लिए, कभी रोटी तो कभी कपड़ा व मकान इन सभी के लिए लड़ते लड़ते एक ग्रामीण जीवन हताश हो जाता है और इस हताशा में पहाड़ी लोगों पर कहर बनकर टूट पड़ती है आपदाओं की मार

जी हां उतराखण्ड आपदा जोन के लिए बेहद ही संनेदनशील राज्य माना जाता है जो भूकम्प जोन के पांचवें स्थान पर आता है, साथ ही हिमालय की तीन श्रेणियों में मध्य हिमालय पर स्थित होने के कारण राज्य में अधिकांश भू भाग पर पर्वत श्रृंखलाएं देखने को मिलती है, जो कि मानसून के समय आर्द्रता लिए पवनों को तेज ढलानों से ऊपर उठाकर मूसला धार बरसा व गरजन करते है, जिस कारण यहां आकाशीय बिजली व बाढ जैसी विपतियां भी ग्रामीणों के जीवन पर मंडराती रहती है।

इन सभी कठिनाइयों व कड़े परिश्रम के बाद जब ग्रामीण जीवन शासन प्रशासन से मदद की गुहार लगाता है तो वह नींबू की तरह निचुड़ सा जाता है, और हमारे देश में जब तक कोई मर न जाये तब तक उसकी समस्याओं के लिए हमसे सहानुभूति नही निकलती है।

बूढाकेदार टिहरी जनपद का सुदूरवर्ती गॉव है जो कि बूढे बाबा भोले नाथ का भी निवास स्थान है, कहने को तो पाण्डवों को गोत्र हत्या के पाप से मुक्ति पाने हेतु सर्वप्रथम शिव शंकर बूढे रूप में यहीं मिले थे और तब से यह स्थाम प्रथम केदार के नाम से जाना जाने लगा, फिर पैदल यात्रा के समय यमनोत्री से गंगोत्री फिर बूढाकेदार होते हुए त्रिजुगीनारायण से केदारनाथ तथा बदरीनाथ जाया जाता था।

इतनी बड़ी महत्व होने के बाद भी ये क्षेत्र विकसित नही हो पाया, जिसका उदाहरण इस बात से जान पड़ता है कि-बूढाकेदार दो नदियों के तट पर बसा गॉव है जिन नदियों में प्रत्येक मानसून में भयानक बाढ़ आती है जिससे कि कई बरसों से नदी तल मे गाद भराव होने के कारण नदी तल तटबन्धों से निरन्तर ऊपर बढता जा रहा है।

रीवर बेड में हर साल गाद भरने के कारण नदी तल ग्रामीण बस्ती से ऊंचा उठता जाता है जिससे बाढ का पानी तटबन्ध की सीमा को लांगता हुआ गॉव में प्रवेश करता है जो कि बाढ प्रवाहित क्षेत्रों की समस्या है।

इसके लिए बाढ से बचाव के सुझावों में नदी तल से प्रत्येक साल गाद की सफाई भी उपायों में आती है

गौरतलब हो कि 2013 में आयी भयानक बाढ से बूढाकेदार में भी बहुत तबाही हुयी थी, 5 मकान बहे व 20-25 बीघा सिंचित भूमि फसल सहित कटान मे बही थी फिर भी सरकार द्वारा बिना पुख्ता दीवार सुरक्षा के ही कच्ची सी दीवार खडी की गयी जिसके पत्थर बारिस से ही गिर जाया करते है

ऊपर से अपने मकानों के लिए चुंगान हेतु लोग बजरी पत्थर निकाल कर नदी तल की सफाई किया करते थे अब सरकारी विभाग द्वारा भी ग्रामीण लोगों पर पाबंद लगवाया जाता है

अत: गॉव में नदी किनारे बसी बस्तियां भविष्य में बाढ की चपेट में आ सकती है जिसके लिए सरकार को व सम्बन्धित विभाग को धर्म गंगा नदी के रीवर बेड से गाद की सफाई करवानी चाहिए जिससे कि बाढ का पानी तटबन्ध को पार कर ग्रामीण बस्ती का कटान न कर सके

Continue Reading
Advertisement

More in उत्तराखंड

उत्तराखंड

उत्तराखंड

देश

देश

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap