Connect with us

चुनावी हलचल : मेरी आवाज सुनो – विजय बहुगुणा

E98E19CD 7F04 45E3 AECC 7B87E1B82057

उत्तराखंड

चुनावी हलचल : मेरी आवाज सुनो – विजय बहुगुणा

2ads

ajax loader

विजय बहुगुणाः *मेरी आवाज सुनो*

शम्भू शरण रतूड़ी  पिछले दिनों जहां *गड़प्प-सड़प्प* बरफवारी से उत्तराखंड का पारा काफी गिर चुका था वहीं राजनीतिक हलचल से सियासी पारे से कइयों के पसीने छूट रहे हैं ।
दरअसल हुआ यह कि कांग्रेस के विद्रोही और भाजपा में समायत *विजय बहुगुणा* ने देहरादून में रात्रि भोज का आयोजन किया ! सभी नये पुराने मित्रों सहित सुबे के मुख्यमंत्री भी बहुगुणा की *जाफद* में सम्मिलित हुये । शायद यह अहसास दिलाने कि – *भैजी ! आप भाजपा के शीर्ष नेताओं में हैं* ! यह अलग बात है कि जब से विजय बहुगुणा भाजपा में आये तब से उन्हें *घास* भी नहीं डाला गया । और इसी बात से वे अपने को असहज महसूस कर रहे थे अथवा नाराज थे। इसी असहजता में 2019 का चुनाव भी आ ही गया । तब शायद चतुर भाजपाइयों को थोड़ा अंदेशा हुआ कि *हिमालय के वरद् पुत्र का यह सुपुत्र* ऐन मौके पर कुछ गड़बड़ न कर दे ।
तब शायद मुख्यमंत्री ने भोज में अपनी उपस्थिति दर्ज करवायी कि- बहुगुणाजी कहीं *अनुपस्थिति को* अन्यथा न समझे । पर महारानी साहिबा अर्थात टिहरी संसदीय क्षेत्र की वर्तमान सांसद *राज्यलक्ष्मी शाह* इस भोज में सम्मिलित नहीं हुयी ।
इस भोज के तुरंत बाद एक खबर लीक हुई कि *विजय बहुगुणा टिहरी संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ना चाहते हैं* ! और उन्होंने यह मंशा अपने सिपाह सलाकारों के हवाले आला कमान तक पहुंचा भी दी । क्योंकि बहुगुणा को मालूम है कि अब राज्य की राजनीतिक में ज्यादा जगह तो बची नहीं है तो क्यों न केन्द्र की राजनीतिक में हाथ आजमाया जाय । और अपने मन में ताना-बाना बुन रहें है कि- पितरों की कृपा से केन्द्र में मोदी की सरकार बन गयी तो मंत्री पद मिलने की पूरी संभावना है । इस पर महारानी का तिलमिलाना भी वाजिब था उन्होंने भी इसकी शिकायत आला कमान से कर दी कि- *यह मूंग मसूर की दाल कहां से और कैसे टिकट की दावेदारी कर रहा है* ? अब देखना यह है कि भाजपा से किसे टिकट मिलता है ?
वहीं कांग्रेस से टिहरी संसदीय क्षेत्र से कई चेहरे उछलकूद कर रहें हैं ! पहला नाम पूर्व प्रदेश अध्यक्ष *किशोर उपाध्याय* का है । दूसरी दावेदारी घनशाली के पूर्व विधायक *बलबीरसिंह नेगी* की है इनके अलावा पूर्व विधायक *शूरबीर सिंह सजवाण* भी दौड़ में शामिल हैं ।
बहराल जो भी हो सियासी पारा गर्म है ! बस तेल देखो तेल की धार देखो ! आगे पढिये..

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

More in उत्तराखंड

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top