Connect with us

टिहरी गढ़वाल

परम्परा: ढोल की धमक अर हुड़के की घमक के साथ कांग्रेसियों की खुशी, डोबरा चांठी पुल सुप्रीम कोर्ट की बदौलत

टिहरी। वर्षों के लंबे इंतजार के बाद आखिर डोबरा चांठी पुल का शुभारंभ हो गया। अब सत्ता विपक्ष की आपसी रस्साकसी कुछ भी हो, लेकिन जनता को पुल का लाभ मिलना शुरू हो जाएगा, ऐसी उम्मीद है।

इस मौके पर भाजपा सरकार जंहा पुल को लेकर पूरा क्रेडिट अपने आप को दे रही हो। लेकिन कांग्रेस इसपर सुप्रीम कोर्ट को क्रेडिट दे रही है।

ऐसा क्यों, आपको बता दें इस मौके पर कांग्रेसियों ने अपनी खुशी का इजहार कुछ अलग अंदाज में किया,अंदाज ये था कि पहाड़ी वाद्य यंत्रों की धुनों पर मिठाई वितरित की गई।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और अधिवक्ता शांति प्रसाद भट्ट लिखते हैं,

डोबरा-चांठी पुल का उद्घाटन हो गया इस संबंध में याचिका लगाई गई थी जिसके तहत सभी याचिकाकर्ता किशोर उपाध्याय, जोत सिंह बिष्ट, शान्ति प्रसाद भट्ट, महिपाल नेगी, दर्शनी रावत टिहरी, प्रतापनगर, उत्तरकाशी की महान जनता को शुभकामनाएं देते है।

कहते हैं कि इस पुल के उद्घाटन में भाजपा नेतृत्व की सरकार ने अनावश्यक ही देरी की है, और उदघाटन समारोह को फीका किया है, हमें उम्मीद थी कि इस महत्वकांक्षी पुल का उदघाटन देश के प्रधानमंत्री करते तो इस सम्पूर्ण भूभाग का भी गौरव बढ़ता और कुछ महत्वपूर्ण सौगातें टिहरी जिले को मिलती।

लेकिन निराशा इस बात की है कि अमर शहीद श्रीदेव सुमन , वीर गब्बर सिंह , कफ्फु चौहान , गंगू रमोला , माधो सिंह भंडारी ,इंद्रमणि बडोनी की इस महान थाती पर जहाँ दुनियाभर से लोग माँ गँगा, यमुना और भगवान सेम नागराज के दर्शन हेतु आते है और भगवान सेम मुखेम की पवित्र यात्रा करते है। वहाँ के लोगों के साथ भाजपा ने छलाव कर दिया है।

डोबरा-चांठी पुल सहित, चिन्यालीसौड़ पुल, घोंटी पुल स्यासु पुल, रोप-वे, फेरीबोट्स, सड़को, पंपिंग योजनाओं ग्रामीण व्यापारियों के प्रतिकर भुगतान आदि के लिए याचिका कर्ताओं की याचिका पर ही देश की सर्वोच्च अदालत माननीय सुप्रीम कोर्ट ने समय-समय पर कुल 51 आदेश पारित कर इन्हें स्वीकृत करने के आदेश दिए थे, और 14 वर्षो तक इन्हें मॉनिटर भी किया था।

इसलिए डोबरा-चांठी पुल सहित इन सभी जनहित के कार्यो का पहला श्रेय सुप्रीम कोर्ट को जाता है, उसके बाद सरकारों और उनके जन-प्रतिनिधियों को, हम उन सभी इंजीनियरिंग टीम को कुशल श्रमिकों को बधाई देते है, जिनकी अथक मेहनत से ये पुल निर्मित हुए है, आज हम उन्हें भी श्रध्दा सुमन अर्पित् करते हैं जिन्होंने निर्माण के दौरान अपने प्राणों की आहुतियां दी थी।

इनकी भी सुनिये,,
भाजपा दूसरों की बनाई रोटी पर अपने हाथ सेकती आई है। डोबरा चांठी पुल का श्रेय सुप्रीम कोर्ट को पूर्ण रूप से जाता है। उसके बाद कांग्रेस के उन जनप्रतिनिधियों को जिन्होंने जनता हितों में याचिका लगाई थी। असलियत यह है कि भाजपा की जन विरोधी नीति जनता से छलावा करती आई है। लेकिन यह हकीकत है कि फ़िल्म को हर कोई पसन्द करता है। लेकिन सूझबूझ वाले लोग पर्दे के पीछे डायरेक्ट, प्रोड्यूसर को पसंद करते हैं।

जिन्होंने उस फिल्म को बनाने में जी जान लगा दी। ठीक इसी प्रकार से प्रदेश में लंबित पड़े कई विकास कर्यो का आज जो भी लोकार्पण उदघाटन हो रहा है। उसके पर्दे के पीछे के लोग कांग्रेसी हैं जिन्होंने सभी कार्यों की नींव रखी, और इन सब बातों को जानने वाली सूझबूझ वाली प्रदेश की जनता है।

किशोर उपाध्याय, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष,कांग्रेस

Continue Reading
Advertisement

More in टिहरी गढ़वाल

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

देश

देश
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
error: Content is protected !!
2 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap