Connect with us

रुद्रप्रयाग

पर्यावरण: फ्यूली,बुंराश के फूलों का जल्दी खिलना ग्लोबल वार्मिंग का संकेत, भविष्य के लिए चिंता का विषय…

लक्ष्मण नेगी। ऊखीमठ: राज्य पुष्प बुंराश व फ्यूली फूल के निर्धारित समय से पहले खिलने से पर्यावरणविद खासे चिन्तित हैं। बुंराश व फ्यूली फूल के समय से पहले खिलने का कारण अधिकाश लोग ग्लोबल वार्मिंग को मान रहे हैं। आने वाले दिनों में यदि जनवरी माह के अन्तिम सप्ताह या फिर फरवरी माह के प्रथम सप्ताह तक ऊंचाई वाले इलाकों में जमकर बर्फबारी व निचले क्षेत्रों में बारिश नहीं हुई तो निचले क्षेत्रों में भी अधिकांश जंगल बुंराश के फूलों से लदक हो सकते है।

बता दे कि पूर्व में बुंराश व फ्यूली का फूल फरवरी अन्तिम सप्ताह में कुछ स्थानों पर खिले देखे जा सकते थे, तथा महाशिवरात्रि पर्व पर भगवान शिव व पार्वती को बुंराश के फूल को अर्पित करने के लिए मीलों दूर जंगलो में जाना पड़ता था। मगर इस वर्ष की बात करे तो बुंराश व फ्यूली का फूल अधिकांश जंगलों में खिल चुका है जो कि चिन्ता का विषय बना हुआ है।

फ्यूली व बुंराश के फूलों को नौनिहाल चैत्र माह की सक्रांति से लेकर आठ गते तक बह्म बेला पर घरों की चौखटों पर बिखेरते है मगर इस वर्ष माघ माह में ही बुंराश व फ्यूली के फूल खिलने से पर्यावरणविद खासे चिन्तित हैं।

पर्यावरणविदों का मानना है कि फ्यूली व बुंराश के फूलों का दो माह पूर्व खिलना ग्लोबल वार्मिंग का असर है। 75 वर्षीय बुरुवा निवासी प्रेम सिंह का कहना है कि आज से पहले हमेशा फ्यूली व बुंराश के फूलों को फाल्गुन माह के तीसरे सप्ताह में ही खिलते देखा था मगर इस वर्ष माघ महीने में ही फ्यूली व बुंराश के फूल खिलना चिन्ता का विषय है पर्यावरणविद हर्ष जमलोकी का कहना है कि मानव द्वारा लगातार प्रकृति दोहन करने से ग्लोबल वार्मिंग की समस्या निरन्तर बढ़ती जा रही है जो कि भविष्य के लिए शुभ संकेत नही है।

Continue Reading
Advertisement

More in रुद्रप्रयाग

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

देश

देश
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
error: Content is protected !!
4 Shares
Copy link
Powered by Social Snap