Connect with us

उत्तराखंड

स्थापना दिवस: राज्य के मुखिया ने प्रदेश स्थापना दिवस पर गिनाई उपलब्धियां, दी प्रदेश वासियों को शुभकामनाएं

देहरादून। उत्तराखंड में पिछले दो दशक विकासकार्यों के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण रहे हैं। राज्य स्थापना के बाद से अब तक प्रत्येक सेक्टर में काफी ज्यादा बदलाव आया है। सड़क, बिजली और पानी से लेकर राज्य के बजट और लोगों की प्रति व्यक्ति आय तक में राज्य कई गुना आगे बढ़ा है।

त्रिवेंद्र सरकार में पिछले 3 साल जीरो टॉलरेंस, बेहतर स्वास्थ्य, दुर्गम तक कनेक्टिविटी और स्वरोजगार पर ज्यादा फोकस रहा है।

उत्तराखंड स्थापना से आज तक अवस्थापना विकास और जनता तक सरकार की पहुंच समेत राज्य का बजट और प्रति व्यक्ति आय काफी तेजी से विकसित हुई है। उत्तर प्रदेश के समय में उत्तराखंड के लिए अलग से बजट जारी होता था जो करीब 15 हजार करोड़ था,

यह भी पढ़ें 👉  राहतः उत्तराखंड में आने के लिए बदल रहे है नियम, अब ऐसे मिलेगी राज्य में एंट्री...

आज 20 सालों में यह बजट बढ़कर 53 हजार करोड़ तक हो गया है। आम आदमी की आए जब ₹15 हजार थी जो आज बढ़कर दो लाख से ज्यादा हो गई है। इसी तरह आज सड़कें करीब-करीब हर गांव तक पहुंच गई हैं, बिजली और पानी भी सुदूरवर्ती गांव तक पहुंचा दिया है।

इस सबके बावजूद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन या जीरो टॉलरेंस को मानते हैं। मुख्यमंत्री का कहना है कि उन्होंने आज सचिवालय और मुख्यमंत्री आवास से भ्रष्टाचारियों को बाहर खदेड़ दिया है। इसके अलावा स्वास्थ्य सेवाओं के विकास में भी बढ़ोतरी की गई है।

यह भी पढ़ें 👉  हादसों का दिन: कहीं पेड़ से एम्बुलेंस टकराई, तो कहीं ऑटो ने महिला को मारी टक्कर...

तीन साल पहले तक राज्य में एक हजार डॉक्टर थे जो आज बढ़कर ढाई हजार हो चुके हैं. अस्पतालों में इक्का-दुक्का आईसीयू बेड थे, अब राज्य के हर जिले में आईसीयू बेड स्थापित कर दिए गए हैं। प्रदेश में हर व्यक्ति को अटल आयुष्मान योजना से भी जोड़ा गया है।

विकास के लिहाज से कनेक्टिविटी के क्षेत्र में रेल सड़क और वायु मार्ग के लिहाज से भी कनेक्टिविटी बड़ी है। उड़ान योजना शुरू करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य है।

यह भी पढ़ें 👉  गर्व के पल: उत्तराखंड की बेटी ने टोक्यो ओलंपिक में रचा इतिहास, शानदार प्रदर्शन से किया देश का नाम रोशन

कृषकों को जहां पहले वर्ष एक लाख रुपये का लोन 2 फीसदी ब्याज पर मिल रहा था, वहीं दूसरे और तीसरे साल में तीन लाख का लोन ब्याज मुक्त कर दिया गया है। प्रदेश में आज 107 से ज्यादा ग्रोथ सेंटर स्वीकृत हो चुके हैं, जिसमें से करीब 45 उत्पादन भी करने लगे हैं और इसमें महिलाएं खुद का रोजगार खड़ा कर रही हैं।

Latest News -
Continue Reading

More in उत्तराखंड

उत्तराखंड

उत्तराखंड

देश

देश
Our YouTube Channel

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

To Top
3 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap