Connect with us
65e.g uttarakhand today
भारत की ही खाई, अब भारत से ही नेपाल कर रहा जुदाई

देश

India vs Nepal: भारत की ही खाई, अब भारत से ही नेपाल कर रहा जुदाई

ezgif.com resize

ajax loader

India vs Nepal

देहरादून। अमित रतूड़ी
कई दशकों से भारत और नेपाल की मित्रता और आपसी संबंधों पर नेपाल सेंध लगाने की प्लानिंग कर रहा है। कह सकते हैं कि भारत ने नेपाल से बेटी रोटी का रिश्ता रखा लेकिन नेपाल है कि भारत के ही कुछ गांव को अपने नक्शे पर दर्शाकर उन पर पूर्ण कब्जा करने की प्लानिंग कर रहा है।

जिन गांवों को भारत ने पाल पोशकर बड़ा किया आज नेपाल उन्हीं गांवों को अपने देश में शामिल करने की बात कर रहा है। हालांकि रक्षामंत्री राजनाथ ने आज यह साफ कह दिया है कि भारत नेपाल को ऐसा हरगिश नहीं करने देगा।

Screenshot 2020 06 16 09 36 33 065 com.android.chrome


दरअसल, नेपाल के काठमांडू से छपने वाले एक अखाबर ने भारत के पिथौरागढ़ जिले के तीन गांव गुंजी, कुटी और नाबी को नेपाल के नक्शे में दर्शाने की बात लिखी है।

यह भी पढ़िए-दूल्‍हा निकला शादीशुदा, पता चलने पर दुल्‍हन पक्ष के उड़े होश..पढ़िए पूरी खबर

यह समाचार उन्होंने संविधानविद और अंतर्राष्ट्रीय कानून के जानकार पूर्णमान शाक्य के बयानों के हवाले से प्रकाशित की है। कहा है भारत के तीन गांवों के लोग नेपाल की नागरिकता ग्रहण कर सकते हैं।

अखबार में कहा गया है कि पूर्णमान शाक्य ने बताया कि तीन गांवों के ग्रामीणों के अपनी पहचान के लिए भारत के आधार कार्ड होंगे लेकिन वह भूमि जिस पर वह निवास कर रहे हैं वह अब नेपाल के नक्शे में शामिल है।

Screenshot 2020 06 16 09 36 33 065 com.android.chrome

भारत ने दी थी विशेष सुविधाएं
जिन गांवों को नेपाल अपने नक्शे में दर्शा रहा है वहां छियालेख पोस्ट है जहां से आगे जाने के लिए पास की आवश्यकता होती है। जिसे देने का अधिकार भारत के उपजिलाधिकारी के समकक्ष के अधिकारी दे सकते हैं।

इस क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों का हवाला देते हुए अखबार ने यह भी कहा है कि भारत ने वर्ष 1962 के चीन युद्ध के बाद इस क्षेत्र के नागरिकों को विशेष सुविधाएं दी हैं। यहां से भारत चीन व्यापार भी होता है। इस क्षेत्र के लोगों को आरक्षण देकर तीन गांवों के लोगों को अपने पक्ष में किया हैं।

खाद्यान्न, नौकरी और शिक्षा में विशेष अनुदान दिया जाता है। सभी को अनुसूचित जनजाति का दर्जा भी दिया है। इन गांवों के लोग भारतीय प्रशासन, सेना व अन्य क्षेत्रों में ऊंचे पदों पर कार्यरत हैं।

Screenshot 2020 06 16 09 40 35 302 com.android.chrome

रक्षामंत्री ने कहा भारत और नेपाल को अलग नहीं किया जा सकता
उतराखंड के जनसंवाद को संबांधित करते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि लिपुलेख तक की सड़क निर्माण के बाद भारत और नेपाल के बीच जो असमंजस बना हुआ है उसका हल निकल जाएगा। भारत और नेपाल के रिश्ते प्राचीन हैं।

भारत और नेपाल के बीच रोटी और बेटी का रिश्ता है। ऐसे में दोनों देशों के मैत्री संबंधों को समाप्त करना किसी के बस की बात नहीं।

Continue Reading
Advertisement

More in देश

उत्तराखंड

उत्तराखंड

देश

देश

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap