Connect with us
e.g. 013 garima congress uttarakhand today newss
जर्नलिज्म: पत्रकारिता न तो परिक्रमा है और न ही इसका कोई दायरा है, लेकिन घेरे में बंध कर रह गई पत्रकारिता

उत्तराखंड

जर्नलिज्म: पत्रकारिता न तो परिक्रमा है और न ही इसका कोई दायरा है, लेकिन घेरे में बंध कर रह गई पत्रकारिता

WhatsApp Image 2020 09 16 at 10.00.24

ajax loader

देहरादून। विभिन्न संस्थानों में पत्रकारिता में अहम किरदार निभा चुके श्री राजेश पांडे जी की faccbook वाल से,,,आज चार साल बाद भी कुछ लोग मुझसे पूछते हैं, तुमने पत्रकारिता क्यों छोड़ी।

मेरा जवाब सिर्फ एक लाइन में होता है, अखबार छोड़ा है, पत्रकारिता नहीं। पत्रकारिता तो शरीर से आत्मा के अलग होने के साथ ही छूटेगी। अखबार पत्रकारिता का एक छोटा सा माध्यम है, यह बात मैं अपने करिअर के 20 साल में भी नहीं समझ पाया था।

किसी भी अखबार के लिए कौन सी बातें या घटनाएं खबर हैं और कौन सी नहीं, यह डेस्क से लेकर रिपोर्टिंग टीम को लगभग रटा सा दिया जाता है।

मैं यह भी मानता हूं कि अखबारों की खबरें डिजीटल से ज्यादा परिपक्व होती हैं। इसकी वजह अखबारों के पास स्पेस की कमी होना भी है। वहीं डिजीटल के पास स्पेस का रोना नहीं होता, इसलिए यहां कुछ भी और कभी भी, वाला नियम चलता है।

डिजीटल ने स्वतंत्र पत्रकारिता को आगे बढ़ाया है, जो विविध रूपों में सामने आई है, जिसके परिणाम कभी बहुत अच्छे रहे और कभी बहुत निराश करने वाले। यह भी हो सकता है कि कुछ लोग मेरी बात से सहमत नहीं हों। वैसे मैं भी अपनी बात किसी पर थोपने की कोशिश कभी नहीं करता।

सबसे पहले आपको अखबारों के दफ्तर में होने वाली कुछ सामान्य जानकारी देता हूं। डेस्क पर रहने के दौरान रिपोर्टर की खबर को पढ़कर उसको एक निर्धारित फार्मेट में पेश किया जाता है।

निर्धारित फार्मेट इसलिए कह रहा हूं कि एक निश्चित समय में आपको स्वतंत्रता ही नहीं होती कि किसी शानदार खबर को अपनी इच्छा से संपादित कर पाओ। ज्यादा से ज्यादा वैल्यू एडिशन के नाम पर कुछ तथ्यों को पेश किया जाता है।

इतनी जल्दी में आप कर भी क्या सकते हो। वहीं रिपोर्टर के सामने निर्धारित शब्दों में खबर लिखने का दबाव होता है।

सबसे ज्यादा दबाव और प्राथमिकता रूटीन को स्थान देने के लिए होते हैं। डेट वैल्यू का बहुत महत्व है, भले ही यह खबर शहर में पुतला दहन करने की ही, क्यों न हो। इस तरह की खबरों की एवज में ऐसी खबरें, जो डेट वैल्यू की नहीं है, पर ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित कर सकती है, बैकलॉग का हिस्सा बन जाती हैं। मैं यहां प्रेरित करने वाली खबरों की बात कर रहा हूं।

एक बात तो है कि अखबारों में इन्फार्मेशन वाली खबरों को महत्व दिया जाता है। कभी कभी तो ये भी छह लाइन संक्षिप्त में निपट जाती हैं। वो इसलिए, क्योंकि आपके पास जगह ही नहीं है।

यह तो सभी को पता है कि अखबारों में विज्ञापन पहले खबरें बाद में, का नियम है। विज्ञापन तय करने वाली टीम को इस बात से कुछ लेना देना नहीं होता कि आपके पास आज क्या खास खबर है।

कभी कभी तो डेस्क की पूरी प्लानिंग फेल हो जाती है डमी के हाल देखकर। मास्ट (मत्थे) तक विज्ञापन दिखाई देता है। संस्करण को समय पर निकालने के दबाव को झेलने के साथ, डेस्क को निर्णय लेना होता है कि किन खबरों को लेना है और किन खबरों को बैकलॉग में डालना है। फटाफट पेजों पर खबरें प्लेस होती हैं और ऐसे में खबरों को फिट करने का काम पेज पर ही होता है।

कभी कभी ऐसा भी हो जाता है कि जिस खबर को आपने लीड या सेकेंड लीड तय किया होता है, उसको दो या एक कॉलम में निपटाना पड़ जाता है। इसे हम खबरों की दुर्गति कहें तो ज्यादा अच्छा होगा। आपके हाथ में कुछ नहीं है।

ऊपर से मीडिया मार्केटिंग की खबरों को लगाने की बाध्यता। जिन फर्म या संस्थाओं से विज्ञापन मिला है, उनका भी तो ख्याल रखना है। इन खबरों पर डेस्क की जवाबदेही ज्यादा होती है।

किसी तरह पेज बन गया, आप उसको प्रकाशन के लिए सेव करने ही वाले हैं या फिर सेव कर दिया, अचानक पता चला कि कोई बड़ी खबर आ गई, जिसे पेज वन से लेकर आपके पेज से कनेक्ट करना है। यह खबर इतनी महत्वपूर्ण है कि कुछ भी हटा दो, इसको लगाना जरूरी है।

फिर से पेज टूटा और उसका ले आउट बदल गया। बैकलॉग में खबरों की संख्या बढ़ गई या फिर पेज पर ही लगी खबरों की और दुर्गति हो गई। कभी कभी इसको खबरों को खत्म करना भी बोला जाता है।

कभी कभी खाली पेजों पर कुछ उन खबरों को भी अच्छा स्थान भी मिलता है, जिनकी जरूरत ही नहीं है। संपादक के बताए अभियानों को जगह की कमी की वजह से ड्राप करना पड़ता है। एक दिन ऐसा भी आता है कि बार-बार ड्राप की जाने वाली खबरें फिर कभी नहीं लग पाती।

रिपोर्टिंग के हाल भी डेस्क की ही तरह होते हैं। पहले तो रिपोर्टर पर शब्दों की निर्धारित संख्या का दबाव और फिर उनकी अच्छी खबरों को कई-कई दिन तक जगह नहीं मिलने की समस्या।

कई बार तो रिपोर्टर अपनी अच्छी खबरें भेजने के बाद डेस्क को कह देते हैं, मर्जी है लगाओ या नहीं। मैंने तो अपना काम कर दिया। ऐसी स्थिति में रिपोर्टर केवल रूटीन पर काम करता है। उनका ध्यान दूसरे अखबारों से प्रतिस्पर्धा के साथ कुछ एक्सक्लूसिव खबरों पर भी होता है।

सोशल मीडिया की स्पीड और तमाम पक्के, कच्चे स्रोतों के बीच अब कोई अपनी खबर को एक्सक्लूसिव बताता है तो यह बात गले नहीं उतरती। हो सकता है कि महीने में कोई खबर एक्सक्लूसिव हो जाए। रिपोर्टर्स और डेस्क के सामने किसी भी खबर को छोड़े बिना अखबार को समय पर निकालने की चुनौती होती है।

प्रतिस्पर्धा इतनी है कि समीक्षा करने वाले बेमतलब की संक्षिप्त खबर को भी मिसिंग में गिना देते हैं। अगर खबर डेस्क से छूटी तो सुबह सात बजे तक इंचार्ज की नींद उड़ चुकी होती है। रिपोर्टर से छूटी तो सुबह दस बजे की मीटिंग में कुछ न कुछ सुनना पड़ेगा।

हां, यह बात तो स्वीकार करनी होगी कि रिपोर्टर्स के संपर्क बहुत होते हैं। उनको बहुत सारे लोग जानते हैं। इस दौरान वो जरूरत पड़ने पर लोगों की मदद भी करा देते हैं। आम व्यक्ति का रिपोर्टर पर बहुत विश्वास होता है।

अखबार में उनकी बात छप जाएगी तो समस्या हल जाएगी, इसे आस्था ही कहूंगा, जो लोगों में रिपोर्टर के प्रति रहती है। हमने कई बार ऐसा महसूस किया। यह तो अखबार का रिपोर्टर ही जानता है कि कितनी बार कहने के बाद डेस्क उनकी खबर को छापेगी। डेस्क चाहती है कि खबर छपे, पर जगह तो मिले। ऐसा अक्सर होता है।

यह जो बातें मैंने बताई हैं कि यह महसूस कराने के लिए काफी हैं कि भले ही अखबारों ने पत्रकारिता को एक निश्चित दायरे में बांधने की कोशिश न की हो, पर वो परिक्रमा और एक खास लिमिट वाली हो गई है। यह खबरों के लिए फ्रेम निर्धारित करने और उनकी लिमिट तय करने की वजह से हो गया है।

विश्वास नहीं है तो कभी के भी केवल 15 दिन के अखबार पढ़कर देख लो। सूचनाओं के सबसे पुख्ता स्रोत माने जाने वाले अखबार आपके शहर के कुछ ही नामों के इर्द गिर्द घूमते हैं। खबरों को पेश करने का तरीका रटे रटाए फार्मेट में ही नजर आता है।

हालांकि मैं यह बात भी स्वीकार करता हूं कि सोशल मीडिया पर प्रसारित होने वाली अधिकतर सूचनाओं पर तब तक विश्वास नहीं किया जा सकता, जब तक कि वो किसी अधिकृत या विश्वस्त स्रोत से उजागर न हों। पर डिजीटल पर बहुत सारी संभावनाएं हैं।

यह संभावनाएं उन लोगों के लिए हैं, जो वास्तव में कुछ अलग करना चाहते हैं और स्रोत से खबरों और सूचनाओं को उठा रहे हैं। डिजीटल ने हर व्यक्ति की अभिव्यक्ति को प्रसार दिया है। इसके लाभ भी हैं और नुकसान भी।

अक्सर देखने में आता है कि डिजीटल माध्यमों में बहुत अभिनव और सकारात्मक स्टोरी विस्तार से प्रसारित होती हैं। इनका प्रस्तुतीकरण अखबारों की तरह किसी फार्मेट में भी नहीं बंधा होता। यह सरल संवाद में समझाने वाली जैसा देखा, वैसा लिखा, की शैली में होती हैं। यहां डिजीटल का लाभ समझ में आता है। कई बार इन स्टोरी ने समाज के हित में किसी खास उद्देश्य को पूरा किया है।

दूसरी सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि डिजीटल पर आ चुके सभी मीडिया संस्थान अब रियल टाइम रिपोर्टिंग पर जोर दे रहे हैं। रिपोर्टर पर दबाव पहले से ज्यादा बढ़ गया है। प्रतिस्पर्धा इतनी बढ़ गई है कि कभी कभी खबरों को वायरल करने के लिए स्रोत पर ध्यान नहीं दिया जाता। बैलेंस रिपोर्टिंग का अभाव दिखता है।

डिजीटल की खास बात यह है कि यह किसी भी कन्टेंट को कितनी भी बार अपड़ेट करने का मौका देता है। इसलिए कभी कभार तो खबर चलाने के बाद ही सोचा जाता है कि क्या सही है और क्या गलत। बाद में पुष्टि हुई तो कन्टेंट चेंज कर दिया। कई बार तो ऐसा भी हुआ कि शोर मचने पर अपुष्ट खबरों को डिजीटल से हटा दिया गया।

डिजीटल पर स्वतंत्र होकर पत्रकारिता करने की बहुत सारी संभावनाएं हैं। इसमें कुछ लिखने या खबरों के लिए शब्दों की संख्या सीमित नहीं है। यहां फोटो, वीडियो के लिए भी लिमिट निर्धारित नहीं है।

पर इसका इस्तेमाल बहुत सोच समझकर किया जाए। अगर, आप कुछ इनोवेटिव, पॉजिटिव और क्रिएटिव करने के पक्षधर हैं तो डिजीटल पर आपका हमेशा स्वागत है। सबसे बड़ी बात यह है कि स्वतंत्र पत्रकारिता में आप पर खबरों को लेकर कोई दबाव नहीं रहता।

हां, अखबारों के सीमित दायरे से बाहर आने के लिए आपको अखबारों से बाहर आने की जरूरत नहीं है। आप मीडिया संस्थानों में रहते हुए भी डिजीटल माध्यमों, जैसे ब्लॉगर, फेसबुक जैसे सोशल मीडिया टूल्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर, मीडिया संस्थान से बाहर आकर ऐसा करना चाहते हैं तो पहले आजीविका के लिए संसाधन तलाश लीजिए। फिर कीजिए, दूसरों के मन और अपने आसमां को छूने वाली पत्रकारिता।

Continue Reading
Advertisement

More in उत्तराखंड

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

उत्तराखंड

उत्तराखंड

देश

देश
To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap