Connect with us
1598671503722

देहरादून

गजब: मेयर गामा की बेटी को नौकरी, बेरोजगारों के हलक सूखे, वाह, रे मेरी सत्ता

ezgif.com resize

ajax loader

देहरादून। मेयर देहरादून सुनील उनियाल गामा की पुत्रि श्रेया उनियाल को नौकरी क्या मिली तो बेरोजगार युवाओं के हलक सूख गए,जिससे विवादस्पद नौकरी दिए जाने का मामला सोशल मीडिया पर उतर गया है। फिर बेरोजगार लोगों का कहना भी तो ठीक ही है।

राजधानी देहरादून में मेयर सुनील उनियाल गामा की बेटी को भारतीय चिकित्सा परिषद में नौकरी दिए जाने पर विवाद गहराने लगा है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक पत्र को लेकर लोगों ने नाराजगी जताई है।

कोरोना काल में मेयर की बेटी को नौकरी मिलने के चलते अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दी जा रही हैंकोरोना काल में जब युवाओं की नौकरियां जा रही हैं और बेरोजगार युवाओं को कोई नया रोजगार नहीं मिल पा रहा है।

तब देहरादून के मेयर सुनील उनियाल गामा की बेटी को भारतीय चिकित्सा परिषद में लेखाकार के पद पर नियुक्ति देने से जुड़ा पत्र वायरल होना विवाद खड़ा कर रहा है।
दरअसल, जिला युवा कल्याण एवं प्रांतीय रक्षक दल अधिकारी के हस्ताक्षर से रजिस्ट्रार भारतीय चिकित्सा परिषद को भेजे गए एक पत्र में 4 लोगों को तैनाती देने के लिए कहा गया है।

इसमें दो सुरक्षाकर्मी और एक चतुर्थ श्रेणी के कर्मी के साथ ही लेखाकार की भी तैनाती के नाम जाहिर किए गए हैं। लिस्ट में तीसरे नंबर पर मेयर सुनील उनियाल गामा की बेटी श्रेया उनियाल का नाम है। लोगों का कहना है कि प्रदेश में बेरोजगारों की इस भीड़ में मेयर की बेटी को ही क्यों इस पद पर तैनाती दी जा रही है।

इस मामले में युवा कल्याण के उपाध्यक्ष जितेंद्र रावत के अनुसार लेखाकार पद के लिए जो योग्यता चाहिए थी, वह महज एक ही आवेदनकर्ता द्वारा पूरी हो रही थी। ऐसे में लेखाकार के पद पर उसी नाम को भारतीय चिकित्सा परिषद के रजिस्ट्रार को भेजा गया है।

Continue Reading
Advertisement

More in देहरादून

उत्तराखंड

उत्तराखंड

देश

देश

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap