Connect with us

रुद्रप्रयाग

प्रतिभा: कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रतियोगिता के पहले चरण का परिणाम घोषित, मनीषा और कृतेश पहुंचे दूसरे राउंड में…..

लक्ष्मण नेगी। ऊखीमठ: शिक्षा एवं सूचना तकनीकी मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित युवाओं के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रतियोगिता के पहले चरण का परिणाम  घोषित हो गया है। इस प्रोग्राम में पूरे भारत से 125 प्रतिभागियों के उत्कृष्ट आइडियाज का चयन हुआ है। उत्तराखण्ड के रुद्रप्रयाग जनपद में विकासखण्ड ऊखीमठ के अन्तर्गत केदार घाटी के जीआईसी फाटा की मनीषा रमोला और जीआईसी नायायणकोटी से कृतेश पुरोहित इस सूची में स्थान बनाने में कामयाब हुए हैं।

राजकीय शिक्षक संघ ऊखीमठ शाखा अध्यक्ष गजेंद्र सिंह करासी ने बताया की इन छात्रों के प्रेरक और मार्गदर्शक अध्यापक मनीष मैठाणी राइका फाटा ने यह प्रोग्राम लाकडाउन अवधि में मई 2020 में आरम्भ हुआ था। इस दौरान जबकि स्कूल बंद थे तो छात्रों तक पहुंच बनाना कठिन था। फिर भी इन्होंने ब्लॉक उखीमठ के विभिन्न स्कूलों के 25 छात्रों को फोन द्वारा इस प्रतियोगिता की जानकारी दी तथा वेबिनार आयोजित कर उन्हें प्रोग्राम में प्रतिभाग हेतु प्रेरित किया। हालांकि कृत्रिम बुध्दिमता पर आधारित इस प्रोग्राम को छात्रों को वेबिनार के माध्यम से समझाना कठिन था।

इस चुनौती को स्वीकार करते हुए मनीष मैठाणी ने छात्रों को तैयार किया। इस प्रतियोगिता में राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत भारत के 25 राज्यों के 5724 शहरों से कुल 52628 छात्रों ने प्रतिभाग किया। प्रतिभागी छात्रों हेतु नेशनल ई गवर्नेस डिवीजन और शिक्षा तथा सूचना तकनीकी मंत्रालय भारत सरकार ने इंटेल के साथ मिलकर ऑनलाइन कक्षाएं संचालित की। इसके पश्चात इन प्रतिभागी छात्रों ने संक्षिप्त वीडियो बनाकर कृत्रिम बुद्धिमता पर अपने विचार प्रेषित किये।

राष्ट्रीय स्तर पर निर्णायकों की टीम द्वारा उत्कृष्ट विचारों का चयन कर 125 प्रतिभागियों की सूची जारी की। ये 125 छात्र दूसरे राउंड में कृत्रिम बुद्धिमता पर आधारित प्रोजेक्ट पर कार्य करेंगे। राष्ट्रीय स्तर पर 125 छात्रों की इस सूची में स्थान पाने वाली कु. मनीषा रमोला राजकीय इंटर कॉलेज फाटा में अध्ययनरत हैं, जबकि कृतेश पुरोहित राइका नारायण कोटी में कक्षा 12 के छात्र हैं।

मनीषा एक कृषक परिवार से है जबकि कृतेश के पिता अध्यापक हैं। इन छात्रों के दूसरे राउण्ड में स्थान पाने पर इनके मार्गदर्शक अध्यापक मनीष मैठाणी अत्यधिक उत्साहित हैं। उनका कहना है कि राष्ट्रीय स्तर पर हालांकि प्रतियोगिता कठिन है पर पूरी आशा है कि ये छात्र दूसरे राउंड में भी सफल होंगे। युवाओं के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रतियोगिता में दोनों विद्यालयों के विद्यार्थियों का चयन होने पर क्षेत्र के प्रतिनिधियों ने खुशी व्यक्त की साथ शुभकामनाएं भी दी।

Continue Reading
Advertisement

More in रुद्रप्रयाग

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

देश

देश
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
error: Content is protected !!
3 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap