Connect with us
1597293616108
दुःखद खबर। नहीं रहे आंदोलनकारी त्रेपन सिंह चौहान, लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे थे त्रेपन।

देहरादून

दुःखद खबर। नहीं रहे आंदोलनकारी त्रेपन सिंह चौहान, लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे थे त्रेपन।

ezgif.com resize

ajax loader

देहरादून। आंदोलनकारी त्रेपन सिंह चौहान नहीं रहे, वह लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे थे। आखिर कार जिंदगी से उन्होंने दामन छुड़ा लिया।

उनके निधन की खबर सुनकर सभी वर्ग के लोग शोकाकुल हो गए है। उत्तराखण्ड टुडे मीडिया भी उन्हें श्रद्धांजलि देता है।


आपको बता दें उत्तराखंड में जन आंदोलनों के साथी त्रेपन चौहान दुनिया से विदा कह गए। त्रेपन चौहान उत्तराखंड में आंदोलनों का एक जाना पहचाना चेहरा हैं।

विभिन्न आंदोलनों में उनकी सक्रीय हिस्सेदारी रही है। खासतौर पर टिहरी के फलेंडा में जल विद्युत परियोजना के खिलाफ स्थानीय लोगों के आंदोलन का उन्होंने आगे बढ़ कर नेतृत्व किया।

देहारादून में असंगठित मजदूरों को संगठित करने के काम भी त्रेपन भाई ने किया। “हे ब्वारी” और “यमुना” जैसे उपन्यासों के लेखक भी त्रेपन भाई हैं।

More artical

दरकरार: जन आंदोलनकारी त्रेपन सिंह चौहान के उपचार में सभी को आना होगा आगे..स्थिति नाजुक..

दुःखद: कांग्रेस को बड़ा झटका,सहम गई प्रदेश कांग्रेस, आखिर क्यों

दहशत: उफान पर गंगा, दहशत में लोग, प्रशासन अलर्ट मोड पर, जानिए कंहा

Continue Reading
Advertisement

More in देहरादून

उत्तराखंड

उत्तराखंड

देश

देश

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap