Connect with us
1597240200122
रात की मूसलाधार बारिश ने मचाई तबाही, एनएच-58 सड़क पर भारी मलबा आने के कारण रात से है बंद

उत्तराखंड

रात की मूसलाधार बारिश ने मचाई तबाही, एनएच-58 सड़क पर भारी मलबा आने के कारण रात से है बंद

ezgif.com resize

ajax loader

नरेंद्रनगर, वाचस्पति रयाल। आज रात्रि को हुई भारी मूसलाधार बारिश से मची तबाही के कारण जहां आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है,वहीं क्षेत्र में अनेकों जगह लोगों के खेत- खलियान मलबे की भेंट चढ़ने की खबरें हैं,तो कुछ के चौक- मकानों में दरारें पड़ने की, इतना ही नहीं सुदूर गांवों की ओर जाने वाली कई लिंक रूट्स तो मलवे के साथ ही जमींदोज सी होती लग रही हैं।


बारिश ने ऐसा कहर बरपाया कि ऋषिकेश-बदरीनाथ मोटर मार्ग( एन एच-58)पर तपोवन व शिवपुरी के बीच पहाड़ से भारी मलबा और बोल्डर आने के कारण रात्रि को ही बाधित हो गया था, जो समाचार लिखे जाने तक 12 घंटे के बाद भी वाहनों की आवाजाही के लिए नहीं खोला जा सका है। जेसीबी निरंतर मलवा हटाने में जुटी है।

IMG 20200812 WA0021


शिवपुरी पुलिस चौकी इंचार्ज नीरज रावत ने बताया कि रात्री को हुई भारी मूसलाधार बारिश के कारण तपोवन और शिवपुरी के बीच पहाड़ के दरकने से भारी मलबा सड़क पर आ गया, मलबा और बोल्डर से यह सड़क पर खड़ी एक पोकलैंड बहुत हद तक दब गई,। उन्होंने बताया कि मलबे में दबी पोकलैंड को निकालने और मलबे को हटाने का काम जारी है।


वहीं नरेंद्र नगर विधानसभा की दुआधार-भैंसअर्क;सोनी-भैंसअर्क ;ग्वाड़-भैंसअर्क तथा सोनी-भैंसअर्क लिंक रोडस जगह-जगह क्षतिग्रस्त हो गई हैं। ग्रामीण क्षेत्रों से गुजर रही इन लिंक मोटर मार्गों के बुरी तरह क्षतिग्रस्त होने से ग्रामीणों की आने जाने की समस्याएं और भी अधिक बढ़ गई हैं।


उधर ग्राम भैंसअर्क के अब्बल सिंह नेगी के चौक मकान पर दरारें पड़ गई हैं और नैन सिंह के मकान के ऊपर रोड का पुश्ता टूटने भारी मात्रा में मलबा नैन सिंह के मकान के ऊपर कुछ दूरी पर एकत्रित हो गया है, जिससे मकान को भी भारी खतरा पैदा हो गया है। राष्ट्रीय राजमार्ग 58 पर तपोवन से आगे सड़क पर आए भारी मात्रा में मलबे को हटाने का काम निरंतर जारी है।


उस रूट से जाने वाले वाहनों का रूट डायवर्ट कर एनएच 94 से होते हुए ऋषिकेश से खाड़ी-गजा-चाका व देवप्रयाग से श्रीनगर, रुद्रप्रयाग,चमोली भेजा जा रहा है।


वैसे भी ऑल वेदर रोड निर्माण चौड़ीकरण को लेकर एन एच-58 पर तोता घाटी जैसी हार्ड रौक को तोड़ने को लेकर युद्ध स्तर पर हो रहे निर्माण कार्य के चलते बड़े वाहनों की आवाजाही पर रोक लगी है।

भीषण वर्षा के कारण कुमार खेड़ा रोड पर आया भारी मलवा, बस्ती में घुसा पानी रात को लोगों में मची अफरा-तफरी;

यूं तो नरेंद्र नगर क्षेत्र में कल शाम से ही रुक-रुक कर हल्की बारिश की शुरुआत हो गई थी,मगर रात्री के 10 बजे से बारिश की तेजी ने ऐसी रफ्तार पकड़ी कि बारिश की बौछारों से निकलती आवाजों से लोग ऐसे चौंके कि वे घरों से बाहर निकल पड़े।


राज महल बाईपास रोड का सारा बरसाती पानी,लोक निर्माण विभाग कार्यालय के बगल से निकलने वाले कौज़ वे से होकर कुमार खेड़ा बस्ती के कुछ मकानों में जा घुसा।


जेसी बस्ती में अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया।
ढलान होने के कारण पानी का बहाव इतना तेज था कि भारी मात्रा में मिट्टी,कंकड़ और पत्थर का ढेर कुमारखेड़ा सड़क पर जा लगा।
मलबे के ढेर के कारण पानी का रुख बस्ती की ओर हो गया, बस्ती में पानी क्या घुसा कि लोग रात के सवा 12 बजे सड़क पर आ गए।
लोगों ने आनन-फानन में कडी़ मेहनत करके पानी का रूख बदलने में कामयाब रहे।


अखिल भारतीय पंचायत विकास संगठन के प्रदेश प्रवक्ता वाचस्पति रयाल ने रात्री को ही घटना की सूचना लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता मोहम्मद आरिफ खान को दी।


जिन्होंने सुबह होते ही मौके पर जेसीबी भिजवाया और और इस काम की देखरेख का जिम्मा किशन पांडे को सौंप कर मलवा हटवाया, मलवा हटाए जाने के बाद ही लोगों ने राहत की सांस ली। साथ ही यहां पर मजदूर भी लगातार मलवा हटाने में लगे हुए हैं।


बरसात के दिनों कुमार खेड़ा में यह समस्या हर वर्ष पैदा होती रहती है। इस समस्या से निजात पाने के लिए लोगों ने मांग की है कि सड़क पर से पानी की निकासी के लिए बने नाड़दाने को बंद किया जाय अथवा कोई दूसरा विकल्प ढूंढा जाए।

Continue Reading
Advertisement

More in उत्तराखंड

उत्तराखंड

उत्तराखंड

देश

देश

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap