Connect with us

टिहरी गढ़वाल

खेल एवं युवा कल्याण विभाग के एकीकरण के विरोध में होने लगी आवाज मुखर,

नरेंद्रनगर। वाचस्पति रयाल
जब सिर मुंडाते ही ओलों की बरसात होने लगे तो समझिये काम में सफलता दूर की कौडी़ महसूस होने लगती है।

मसला प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण बिभाग का है।सरकार या शाशन को रातोंरात ऐसा क्या सूझा कि खेल जगत की नामीगिरामी हस्तियों के वगैर सलाह मसविरा के खेल व युवा कल्याण विभाग के एकीकरण का मशौदा हवा-हवाई तैयार कर दिया गया।

वगैर सोचे-समझे इस तरह के एकीकरण किए जाने का खिलाड़ियों ने जमकर विरोध करना शूरू कर दिया है।अक्सर आंदोलनों की चिनगारी से अपनों को दूर रखने वाले नरेन्द्रनगर वासियों का ज़मीर भी इस मुद्दे पर जाग उठा और खेल व युवा कल्याण विभाग के एकीकरण के विरोध में बैठक कर खेल प्रेमी लोगों द्वारा कहा गया कि कि इससे खिलाड़ियों को नुकसान होना तय है तथा उनके कुशल और तकनीकी दक्षता में भी प्रभाव पड़ेगा।

नरेंद्र नगर झंडा मैदान में आयोजित खेल प्रेमी व पूर्व खिलाड़ी की एक बैठक सेना में पूर्व कमांडेंट यशपाल राणा की अध्यक्षता में आयोजित की गई।

उक्त बैठक में टेबल टेनिस प्रशिक्षक सुमित जोशी ने कहा कि खेल हित में एकीकरण के प्रस्ताव को निरस्त करना चाहिए तथा उन्होंने कहा कि इस मुहिम में पूरे प्रदेश भर में प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों ने भी इसका विरोध दर्ज करना शूरू कर दिया है।

epile

पूर्व वॉलीबॉल खिलाड़ी व कार्यक्रम अध्यक्ष यशपाल राणा ने कहा कि खेल विभाग में आने के लिए शैक्षिक एवं अन्य योग्यताएं भिन्न हैं, फिर भी इन पदों पर नियुक्ति लोक सेवा आयोग के तहत की जाती है।

जिनके वेतनमान भी भिन्न हैं। यही नहीं दोनों विभागों की कार्यप्रणाली भी भिन्न है जिस कारण खेल विभाग व युवा कल्याण विभाग के एकीकरण का औचित्य नहीं बनता अगर इन दोनों विभागों का विलय होता है तो इस मुद्दे पर खिलाड़ियों द्वारा आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी।

खेल विभाग में कर्मचारी विशेष योग्यता रखते हैं उन्होंने कहा कि बिना प्रशिक्षण के अधिकारियों की नियुक्ति से इसका असर खेल गतिविधियों पर पड़ेगा।

सभी खिलाड़ियों ने कहा कि राज्य स्थापना के बाद खेल गतिविधियों को बढ़ाने के लिए अब तक सरकार द्वारा कोई ठोस प्रयास नहीं किए गए हैं।

जबकि इसके उलट खेल व युवा कल्याण विभाग को एक करके खिलाड़ियों के साथ अन्याय किया जा रहा है। उक्त बैठक में उत्तराखंड वालीबॉल एसोसिएशन के सचिव सुखदेव बडोनी, वीर विक्रम सिंह रावत, नरपाल भंडारी ,विजेंद्र भट्ट, दिनेश गुसाईं ,राजू भारती, महेश पालीवाल, प्रकाश ड्यूंडी, मनोज भंडारी, चंद्रदेव नौटियाल, सूर्य प्रकाश जोशी व सुरेंद्र पुंडीर उपस्थित थे।

Continue Reading
Advertisement

More in टिहरी गढ़वाल

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

देश

देश
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

Like Facebook Page

To Top
error: Content is protected !!
1 Share
Share via
Copy link
Powered by Social Snap