Connect with us

उत्तराखंड

Big Breaking: उत्तराखंड में यहां कूड़े में मिली बीजेपी की चुनाव प्रचार सामग्री, भीतरघाट के बाद अब शुरू हुआ नया विवाद…

देहरादून: उत्तराखंड में वोटिंग के बाद से ही बीजेपी प्रत्याशियों के अजब-गजब बयान सामने आ रहे है। माना जा रहा है कि नेताओं को हार का डर सता रहा है। नेताओं  ने अपनी ही पार्टी के नेताओं पर गद्दारी का आरोप लगाया तो अब आलाकमान ने भी सख्ती बरतना शुरू कर दी है। बीजेपी में अंदर खाने यहां तक चर्चा हो रही है कि प्रदेश स्तर के कई बड़े नेताओं ने चुनाव में पार्टी के लिए काम तक नहीं किया है। लिहाजा इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए अब संगठन अपने स्तर पर रिपोर्ट तैयार कर रहा है। वहीं इन सबके बीच हरिद्वार में बीजेपी की चुनाव प्रचार सामग्री कूड़े में मिली है। हद तो तब हो गई, जब पीएम मोदी और सीएम धामी का भी सम्मान नहीं रखा। उनकी तस्वीर लगी पैंफलेट को आग के हवाले कर दिया गया।अब मामले ने तूल पकड़ा तो बीजेपी ने कांग्रेस पर आरोप मढ़ दिया।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार पार्टी के नेताओं में इस बात को लेकर जबरदस्त नाराजगी है कि राज्य के कई बड़े नेताओं ने चुनाव में पार्टी के पक्ष में कोई काम ही नहीं किया। यही नहीं प्रदेश के कई प्रत्याशी पहले ही चुनाव में खुद के खिलाफ भीतरघात होने की बात कह चुके हैं। मतगणना से पहले ही बीजेपी के की प्रत्याशियों की नींद हार के डर से गायब है। उन्होंने अपनी पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं को भीतरघात का आरोप लगाया है। ऐसे में बीजेपी असहज दिख रही है। इतना ही नहीं कोई भी राजनीतिक पार्टी अपनी नीतियों एवं कार्यों का बखान करने वाली पैंफलेट को चुनाव से पहले जनता के बीच पहुंचाती है, लेकिन ये सामग्री लोगों तक पहुंचने की बजाय कूड़े के ढेर में पड़े मिले तो इसे पार्टी और प्रत्याशी के खिलाफ भीतरघात नहीं कहेंगे तो और क्या कहेंगे? ऐसा ही कुछ हरिद्वार के कनखल क्षेत्र में देखने को मिला है. जहां दिग्गजों की तस्वीर लगी चुनाव प्रचार सामग्री को कूड़े में डाल कर आग के हवाले कर दिया गया। सीएम धामी भी मामले में जांच की बात कर चुके है।

बता दें कि हरिद्वार में इस बार बीजेपी में भीतरघात की खबर काफी पहले से उड़ रही थी, लेकिन बीजेपी उसे कोरी अफवाह बताकर टालती आ रही थी, लेकिन आज इस अफवाह को उस समय और बल मिल गया। जब कनखल इंदु एनक्लेव के पीछे खाली मैदान में भारी मात्रा में बीजेपी की चुनाव प्रचार सामग्री जली हुई मिली। जबकि, काफी संख्या में सामग्री में आग भी नहीं लग पाई। वहीं मामले पर पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता नवीन ठाकुर कहते हैं कि किसी भी पार्टी के नेता को इस तरह चुनाव परिणाम से पहले ही दूसरे पर ठीकरा नहीं फोड़ना चाहिए, इसे अनुशासनहीनता की श्रेणी में माना जा सकता है। उधर उन्होंने कहा कि क्योंकि जांच दो तरफ से होती है। लिहाजा इस बात की भी जांच की जाएगी कि बड़े नेताओं की भूमिका इस दौरान क्या रही।

Latest News -
Continue Reading

More in उत्तराखंड

Advertisement

उत्तराखंड

उत्तराखंड
Advertisement

देश

देश

YouTube Channel Uttarakhand Today

Our YouTube Channel

Advertisement

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

To Top
8 Shares
Share via
Copy link