Connect with us

आरोप: फर्जी प्रमाण पत्र का खेल, जिला पंचायत सदस्य बन गई कविता उर्फ आसिया

आरोप: फर्जी प्रमाण पत्र का खेल, जिला पंचायत सदस्य बन गई कविता उर्फ आसिया

हरिद्वार

आरोप: फर्जी प्रमाण पत्र का खेल, जिला पंचायत सदस्य बन गई कविता उर्फ आसिया

हरिद्वार। राजपुर आरक्षित सीट से जिला पंचायत सदस्य कविता उर्फ आसिया पर फर्जी जाती प्रणाम पत्र से जिला पंचायत सदस्य बनने का आरोप लगा है। जिसके तहत ज्वालापुर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

पुलिस के मुताबिक पिरान कलियर थानाक्षेत्र के कोटा मुरादनगर निवासी सविता ने दी तहरीर में सीओ सिटी को बताया कि जिला पंचायत वार्ड नंबर दो राजपुर आरक्षित सीट पर वर्ष 2015 में मोअज्जम राव की पत्नी आसिया ने चुनाव लड़ा और निर्वाचित हुई। सविता का आरोप है कि आसिया के माता-पिता अनुसूचित जाति के हैं और दिल्ली के निवासी हैं।

गढ़मीरपुर निवासी मोअज्जम राव से शादी करने के बाद वह कविता से आसिया बनी और हरिद्वार तहसील से अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र बनवाते हुए चुनाव लड़ा।

प्रार्थना पत्र में आसिया के साथ-साथ उसके पति, चुनाव में प्रस्तावक रहे देवर सहित तत्कालीन जिला निर्वाचन अधिकारी, प्रमाण पत्र बनाने वाले तहसीलदार, कानूनगो आदि कई सरकारी अधिकारी कर्मचारियों पर मिलीभगत का आरोप लगाया गया।

सीओ सिटी की जांच के बाद कविता उर्फ आसिया निवासी गढ़मीरपुर, कोतवाली रानीपुर के खिलाफ धोखाधड़ी, कूटरचना आदि धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

ज्वालापुर कोतवाली प्रभारी प्रवीण सिंह कोश्यारी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। उधर, जिला पंचायत सदस्य का कार्यकाल भी पूरा होने वाला है। अधिकांश सदस्यों ने दोबारा चुनाव लड़ने की तैयारी शुरू कर दी है जबकि साथ ही नए दावेदार भी सक्रिय हो गए हैं।

यह कोई पहला मामला नहीं है इससे पूर्व भी जिले में ऐसे तीन मामले सामने आए थे। यह मामले नैनीताल हाईकोर्ट तक भी पहुंचे।

आरोप: फर्जी प्रमाण पत्र का खेल, जिला पंचायत सदस्य बन गई कविता उर्फ आसिया via @https://in.pinterest.com/uttarakhandtoday/
Latest News -
Continue Reading
Advertisement

More in हरिद्वार

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Our YouTube Channel
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग खबरें

Recent Posts

To Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap